sdm kya hota hai / sdm का फुल from क्या होता है 

35

sdm kya hota hai / sdm का फुल from क्या होता है 

sdm kya hota hai दोस्तों आपने एसडीएम का नाम कहीं ना कहीं जरूर सुना होगा और एसडीएम से हमारे कई सरकारी काम होते हैं इसीलिए हमारे मन में यह सवाल जरूर आता है कि आखिर एसडीएम ऑफिसर कौन होता है और यह कैसे काम करता है और एसडीएम कैसे बनते हैं और एसडीएम की सैलरी कितनी होती है एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है और एसडीएम के पास कितना पावर होता है अगर आप इन सब के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को लास्ट तक जरूर पड़े क्योंकि हम हमारे इस आर्टिकल में आपको एसडीएम से संबंधित सारी जानकारी विस्तार से बताएंगे

 एसडीएम क्या होता है

अगर एसडीएम की बात की जाए तो sdm 1 उच्च रैंक का अधिकारी होता है और एसडीएम राज्य प्रशासनिक सेवा में जो सबसे ऊपर का पद होता है हर राज्य को कई सारे उपखंडो में विभाजित किया गया है और उन सभी उपखंडो के लिए एक एसडीएम होता है यानी कि प्रत्येक उपखंड के लिए एक एसडीएम की नियुक्ति की जाती है एसडीएम का नियंत्रण अपने उपखंड के तहसीलदार पर होता है और जिले का वह जो जिलाधिकारी होता है उसके बीच तहसीलदारों के पत्राचार का एक माध्यम भी एसडीएम होता है

sdm का फुल fromक्या होता है

एटीएम का फुल फॉर्म Sub Divisional Magistrate 

एसडीएम के कार्य की बात की जाए तो एसडीएम अपने एरिया के भूमिगत काम करता है इसके इसके अलावा एसडीएम को और भी कई सारे अधिकार दिए जाते हैं जैसे कि वाहनों का पंजीकरण विवाह का पंजीकरण करना विवाह समारोह चुनाव का काम राजस्व काम हथियार का लाइसेंस और ओबीसी एससी एसटी जाति प्रमाण पत्र भी एसडीएम के द्वारा ही जारी किए जाते हैं और यह इनके मुख्य काम होते हैं एसडीएम कलेक्टर के नीचे की पोस्ट होती है

एसडीएम की मंथली सैलरी और उसको मिलने वाली प्रमुख सुविधाएं

एसडीएम की बात की जाए तो sdm हाई rank का सरकारी पद होता है और एसडीएम को सैलरी भी सरकार के द्वारा अच्छी खासी दी जाती है और एसडीएम की सैलरी की बात की जाए तो एसडीएम की प्रारंभिक सैलरी 50000 होती है जो एक लाख तक हो सकती है और वेतन के अलावा भी एसडीएम को कई अन्य लाभ दिए जाते हैं

जब किसी व्यक्ति का एसडीएम के पद पर नियुक्ति होती है तो उन्हें सरकार की तरफ से एक घर दिया जाता है और उसी सरकारी आवास में एसडीएम रहता है और घर की सुरक्षा के लिए एसडीएम को सुरक्षा गार्ड भी दिए जाते हैं और घर के घरेलू कामकाज के लिए एसडीएम को नौकर भी सरकार की तरफ से मुहैया कराए जाते हैं एसडीएम राज्य में सरकारी काम से यात्रा करना और यात्रा के दौरान जहां कहीं भी ठहरता है उसे ठहरने की उच्च श्रेणी की व्यवस्था की जाती है और एसडीएम को एक वाहन दिया जाता है गवर्नमेंट की तरफ से और उसके साथ एक ड्राइवर भी उसे मिलता है और मोबाइल के लाइट के जितने भी सारे बिल होते हैं बाह sdm गवर्नमेंट के द्वारा तय किए जाते हैं इसमें घरेलू खर्च के बिल ऐड नहीं किए जाते

एसडीएम कैसे बनते हैं

एसडीएम के पद की बात की जाती है तो एसडीएम का पद राज्य प्रशासनिक सेवा के सबसे ऊपरी पदों में से एक होता है समाज में एसडीएम को काफी ज्यादा सम्मान की नजर से देखा जाता है और हर राज्य एसडीएम के चयन के लिए प्रशासनिक सेवाओं की परीक्षा का आयोजन करता है जिसमें एसडीएम की पोस्ट पाने के लिए प्रमुख 2 तरीके होते हैं

  1.  पहले नंबर पर आता है यूपीएससी यानी कि Union Public Service Commission एसडीएम बनने का सबसे पहला तरीका यही होता है कि आपको यूपीएससी क्लियर करने होती है इससे पहले आपको ग्रेजुएशन कंप्लीट करना होता है इसके बाद आपको यूपीएससी एग्जाम देना होता है और यूपीएससी एग्जाम देने के बाद आपको आईएएस ऑफिसर शुरुआत में बनाया जाता है इसके बाद आपको एसडीएम की पोस्ट दी जाती है और एसडीएम की पोस्ट के कुछ सालों बाद आपको डीएम बनाया जाता है
  2.  स्टेट पीएससी एग्जाम अगर आपको एसडीएम बनना है तो आपके पास दूसरा ऑप्शन होता है स्टेट पीएससी की परीक्षा और इस एग्जाम में बैठने के लिए भी आपके पास ग्रेजुएशन होना जरूरी होता है और स्टेट पीएससी एग्जाम देने का एक फायदा यह है कि अगर आप इसमें टॉप रैंक हासिल कर लेते हैं तो आपको ट्रेनिंग के बाद सीधा एसडीएम बना दिया जाता है और कुछ सालों बाद जब आपका प्रमोशन होता है तो आपको इसमें डीएम की पोस्ट दी जाती हैं

अगर कोई व्यक्ति state psc एग्जाम भी क्लियर कर लेता है और वह उस एग्जाम में टॉप की रैंक हासिल करता है तो उसके पास एसडीएम बनने का मौका होता है जब कोई व्यक्ति राज्य पीएससी क्लियर कर लेता है तो उसके बाद उसे  नायब तहसीलदार का पद दिया जाता है  नायब तहसीलदार में कुछ समय तक अपना काम करता है यानी कि उसमें कुछ समय तक गवर्नमेंट को सेवा देता है उसके बाद उसका प्रमोशन किया जाता है और उसे एसडीएम बना दिया जाता है

 

अगर एसडीएम की बात की जाए तो जो भी स्टूडेंट यूपीएससी क्लियर करके टॉप रैंक हासिल करते हैं उन्हें सीधे डीएम नहीं बनाया जाता उन्हें एक आईएएस अधिकारी बनाया जाता है इसके बाद उन्हें एसडीएम मनाया जाता है वह जब एसडीएम में कुछ समय गवर्नमेंट की सेवा करते हैं यानी कि उस पद पर कार्यरत रहते हैं तो इसके कुछ वर्ष बाद उन्हें प्रमोशन देकर डीएम बनाया जाता है डायरेक्ट डीएम किसी भी तरह से नहीं बनाया जा सकता और डीएम बनने से पहले हर अधिकारी को एसडीएम बनना होता है

sdm kya hota hai आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल sdm kya hota hai में आपको बताया है कि एसडीएम क्या होता है एसडीएम की सैलरी कितनी होती है और एसडीएम कैसे बनते हैं और एसडीएम बनने से पहले आपको कौन सी परीक्षा देनी पड़ती है अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

Previous articlepolice rank list and salary / भारतीय पुलिस ऑफिसर के प्रमुख पद
Next articleUPSC Exam kya hai पात्रता,  प्रयास ,योग्यता, UPSC Examinations
admin
हेलो दोस्तों मेरा नाम मनोज मीना है मैं बीए फाइनल ईयर का छात्र हूं मुझे बायोग्राफी लिखना काफी पसंद है क्योंकि हिंदी में ज्यादातर जानकारी किसी के बारे में भी उपलब्ध नहीं होती इसीलिए मैं ज्यादातर जानकारी इकट्ठी कर कर पॉपुलर पर्सन के बारे में बायोग्राफी लिखता हूं आप मुझे इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो भी कर सकते हैं