panchayat sachiv kon hota hai / सचिव के क्या क्या काम होते है 

550

panchayat sachiv kon hota hai / सचिव के क्या क्या काम होते है 

panchayat sachiv kon hota hai क्या आप  पंचायत सचिव के बारे में जानना चाहते हैं और यह जानना चाहते हैं कि इनका चुनाव कैसे होता है यानी कि ये कैसे बनते हैं और इनका कार्यकाल कितने समय का होता है और इनकी सैलरी कितनी होती है और इनके पंचायत में क्या-क्या पावर दिए जाते हैं और इनके लिए कितनी योग्यता होती है अगर आपके मन में यह सारे सवाल हैं और आप इनके आंसर जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में लास्ट तक बने रहें क्योंकि हम हमारे इस आर्टिकल में आपको पंचायत सचिव से संबंधित सारी जानकारी देंगे जैसे कि पंचायत सचिव कौन होता है पंचायत सचिव के कार्य एवं अधिकार और पंचायत सदस्य की सैलरी

हम सबको पता है कि प्रत्येक ग्राम में 1 ग्राम पंचायत होती है और जिसका 1 ग्राम प्रधान होता है और उसी ग्राम प्रधान के नीचे पंचायत सचिव काम करते हैं

पंचायत सचिव कौन होता है

अगर पंचायत सचिव की बात की जाए तो इसे हम कई नाम से जानते हैं जैसे कि ग्राम पंचायत सचिव ग्राम विकास अधिकारी ग्राम पंचायत विकास अधिकारी और इसे हम सिग्रेटी के नाम से भी जानते हैं और यह पंचायत में निर्वाचित प्रतिनिधि होता है पंचायत सचिव का निर्वाचन राज्य सरकार द्वारा किया जाता है और इनका प्रमुख काम होता है कि पंचायत की देखरेख करना और पंचायत सचिव कार्यालय का यह प्रभावी होता है और इनके साथ ही सरकार के द्वारा दी जाने वाली योजनाओं को अपने पंचायत की जनता तक पहुंचाना और उन जनता को पंचायत में मिलने वाले लाभ से अवगत कराना

अगर ग्राम पंचायत सचिव की बात की जाए तो यह पद काफी ज्यादा प्रभारी पद होता है क्योंकि इसी के आधीन पूरी पंचायत का काम होता है हालांकि प्रत्येक पंचायत में एक प्रधान होता है लेकिन प्रधान पांच साल के लिए होता है और यह पद स्थाई होता है और इन्हीं के आधीन सारी पंचायत का काम आता है और ग्राम प्रधान भी योजना लागू करने से पहले इन्हीं के द्वारा उन योजनाओं का अच्छी तरीके से क्रियान्वयन किया जाता है और लाभ मिलने वाली जनता को उसके बारे में इन्हीं के द्वारा अवगत कराया जाता है

पंचायत सचिव के कार्य एवं अधिकार (Panchayat Secretary Works and Rights)

 

  • अगर पंचायत सचिव के कार्य की बात की जाए तो पंचायत सचिव का सबसे प्रमुख काम होता है कि पंचायत अधिनियम के अंतर्गत आदेशों का अध्ययन कर उनका सुनिश्चित पालन करवाना
  • और पंचायत सचिव का काम होता है कि कार्यालय के अभिलेखों को सुव्यवस्थित तरीके से रखना और पुराने अभिलेखों को पंजीबद करना है यह काम भी पंचायत सचिव के द्वारा ही किया जाता है
  • सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को अपनी पंचायत के लाभार्थियों को दिलबना और जिन व्यक्तियों को उनका लाभ नहीं मिल रहा है उन्हें उस लाभ से अवगत कराना
  • और ग्राम सभा के आयोजन में भी पंचायत सचिव का मुख्य योगदान रहता है क्योंकि ग्राम सभा में उस पंचायत की आम जनता की समस्याएं सुनी जाती है और उनका निवारण प्रधान और पंचायत सचिव द्वारा ही किया जाता है
  • राज्य सरकार द्वारा विभिन्न स्त्रोतों के लिए जो भी पैसे पंचायत में दिए जाते हैं उन पैसों का सही उपयोग करना और उसने पंचायत कोष में जमा करना और उसका हिसाब रखना यह भी पंचायत सचिव का काम होता है
  • केंद्र में सरकार द्वारा जितनी भी सरकारी योजना चलाई जाती हैं जिनका लाभ पंचायत में रहने वाली है आम जनता को दिया जाता है उनको सुचारु रुप से अपने गांव में लागू करना
  • प्रत्येक पंचायत में हर वर्ष  एक सभा का आयोजन किया जाता है और इस सभा का आयोजन की व्यवस्था भी पंचायत सचिव के द्वारा ही की जाती है
  • और पंचायत सचिव के द्वारा ही जन्म प्रमाण पत्र मृत्यु प्रमाण पत्र बीपीएल परमिट और वोटर लिस्ट में नाम जोड़ना और कई ऐसे काम होते हैं जो पंचायत सचिव के द्वारा ही किए जाते हैं सरकारी दस्तावेजों पंचायत से बनते हैं विना  पंचायत सचिव के द्वारा नहीं बनाये जाते हैं

 

पंचायत सचिव की सैलरी (Panchayat Secretary Salary)

अगर पंचायत सचिव की सैलरी की बात की जाती है तो इन्हें अलग-अलग जगह पर अलग-अलग सैलरी मिलती है जैसे कि इनकी सैलरी ₹5200 से लेकर 20000 तक मिलती है और इनकी नियुक्ति राज्य सरकार द्वारा की जाती है मगर हर राज्य में आपको अलग-अलग सैलरी देखने को मिलती है

पंचायत सचिव और रोजगार सहायक

बहुत सारे लोगों के मन में यह कंफ्यूजन होता है कि सचिव और रोजगार सहायक एक ही होते हैं लेकिन आपको यह बात जान का थोड़ा अचरज होगा कि सचिव अलग होते हैं और रोजगार सहायक अलग होते हैं सचिव रोजगार सहायक से ऊपर की पोस्ट होती है रोजगार सहायक का काम होता है पंचायत में रोजगार से संबंधित कार्य करवाना रोजगार पंजीयन करना आदि जबकि सचिव का काम होता है पंचायत का काम देखना और सरकारी डॉक्यूमेंट जितने भी बनते हैं वाह सचिव के द्वारा ही बनाए जाते हैं रोजगार सहायक के द्वारा नहीं बनाए जाते

 

 पंचायत सचिव कैसे बने

अगर पंचायत सचिव की बात की जाए तो पंचायत सचिव राज्य सरकार द्वारा बनाए जाते हैं और इनके लिए मिनिमम योगिता ग्रेजुएशन मांगी जाती है अभी हर पंचायत में एक सचिव है और नए सचिव की फिलहाल में कोई भर्ती नहीं हो रही है अगर किसी पंचायत के सचिव की मृत्यु हो जाती है या वाह किसी करप्शन में पकड़ा जाता है तो उस पंचायत के लिए सचिव की नियुक्ति होती है और वह उसी पंचायत में अगर किसी सदस्य सचिव की नियुक्ति होती है तो सबसे पहले प्राथमिकता उसी पंचायत के किसी सदस्य को दी जाती है और अगर कोई उस पंचायत में उस पद के योग्य हो तो उसे ही बगैर कोई एग्जाम के बाद नौकरी दी जाती है

panchayat sachiv kon hota hai / आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल panchayat sachiv kon hota hai / पंचायत सचिव के क्या क्या काम होते है  में आपको बताया है कि पंचायत सचिव क्या होता है पंचायत सचिव कैसे बनते हैं पंचायत सचिव की सैलरी कितनी होती है और पंचायत सचिव के कार्य क्या क्या होते हैं अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

Previous articlemla kya hota hai / mla का फुल from क्या होता है 
Next articlegram sabha ya gram panchayat ky hai / ग्राम सभा ,ग्राम पंचायत किसे कहते है
admin
हेलो दोस्तों मेरा नाम मनोज मीना है मैं बीए फाइनल ईयर का छात्र हूं मुझे बायोग्राफी लिखना काफी पसंद है क्योंकि हिंदी में ज्यादातर जानकारी किसी के बारे में भी उपलब्ध नहीं होती इसीलिए मैं ज्यादातर जानकारी इकट्ठी कर कर पॉपुलर पर्सन के बारे में बायोग्राफी लिखता हूं आप मुझे इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो भी कर सकते हैं